School of Economics | Admin
1
archive,paged,author,author-admin,author-1,paged-74,author-paged-74,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-11.1,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.1.1,vc_responsive

  आम बजट 2018-19 में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों (Micro, Small and Medium Enterprises-MSMEs) को काफी बढ़ावा दिया गया है, ताकि रोज़गार सृजन और आर्थिक विकास को नई गति प्रदान की जा सके। MSMEs क्षेत्र के लिये बजटीय आवंटन को वर्ष 2017-18 के 6481.96 करोड़ रुपए...

  वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ऐसा बजट पेश किया है जो हर तरह से अच्छा प्रतीत होता है लेकिन राजकोषीय गणित को ठीक से समझने के लिए इसे थोड़ा गहराई से पढऩा होगा। तभी आर्थिक वृद्घि पर इसके प्रभाव का भी आकलन हो पाएगा। सरकार...

एनके सिंह , (लेखक राजनीतिक विश्लेषक एवं वरिष्ठ स्तंभकार हैं) मोदी सरकार ने अपने आखिरी पूर्ण बजट में शहरी मध्यम एवं उच्च वर्ग की अपेक्षाओं को लगभग नजरअंदाज करते हुए ग्रामीण भारत पर अपना दांव लगाया है। शायद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गुजरात चुनाव के बाद...

C P Chandrasekhar Bitcoin has left the world of finance gasping. Though the total market value of all of that cryptocurrency in circulation is only a fraction of the value of the world’s financial assets, the rapid rise in the value of the currency has made...

* पांच का दम* 1. नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम दस करोड़ गरीब परिवारों को सेहत की चिंता से मुक्त कर देगी। इन परिवारों को पांच लाख का स्वास्थ्य बीमा मिलेगा। किसी भी देश में इतनी बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना नहीं है। लोग इसे मोदी केयर नाम...

Black money perpetuates poverty B BASKAR Updated on January 24, 2018 ARUN KUMAR, Economist To fight black economy, we must make politicians, businesses and the judiciary more accountable, says Arun Kumar Without black money, the Indian economy today would be eight times larger, says Arun Kumar, Malcolm Adiseshiah Chair Professor at...

Union #Budget 2018 *🍃🔷किसानों के लिए क्या है खास* हर खेत को पानी, कृषि सिंचाई योजना के लिए 2600 करोड़ रुपए का ऐलान 1200 करोड़ बांस क्षेत्र के विकास के लिए राष्ट्रीय बांस मिशन, बांस को पेड़ की श्रेणी से अलग किया जाएगा खेती के लिए 10 लाख करोड़...

  🗞कृषि का वाणिज्यीकरण बढऩे और बाजार के समय के साथ नहीं बदल पाने के कारण किसानों की समस्याएं बढ़ती जा रही हैं। देश में कृषि क्षेत्र की वृद्घि दर पर इस क्षेत्र की कारोबारी स्थितियों का गहरा प्रभाव है। इस बात के प्रमाण हैं कि जब...