School of Economics | Admin
1
archive,paged,author,author-admin,author-1,paged-76,author-paged-76,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-11.1,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.1.1,vc_responsive

Prabhat Patnaik December 25, 2017 The BJP government, it appears, cannot remain content without inflicting irreparable damage on the institutions of the Indian economy. Its latest move in this direction is the Financial Resolution and Deposit Insurance (FRDI) Bill which was introduced in parliament on the...

  सुभाषचंद्र बोस की 121वीं जयंती पर आधुनिक और प्रगतिशील राष्ट्र के निर्माण का उनका विचार चंद्र कुमार बोस, (लेखक सुभाषचंद्र बोस के बड़े भाई शरदचंद्र बोस के प्रपोत्र हैं।) नेताजी सुभाषचंद्र बोस 18 अगस्त 1945 को गायब हो गए, मेरे जन्म के बहुत पहले। मेरे पिता अमीय...

  21 January 2018(Sunday) 1.अमेरिका में सरकार का कामकाज ठप : सीनेट ने नया बजट पास नहीं किया, व्यय विधेयक खारिज • अमेरिकी सीनेट द्वारा व्यय विधेयक खारिज कर दिए जाने के कारण पांच साल में पहली बार अमेरिकी सरकार का कामकाज शनिवार को औपचारिक रूप से बंद...

⭕️कर मुक्त होगी 20 लाख तक की ग्रेच्युटी* • देश में संगठित क्षेत्र के कर्मचारियों को जल्द ही अच्छी खबर मिल सकती है। आगामी बजट सत्र में ग्रेच्युटी को लेकर संशोधन विधेयक पारित होने की उम्मीद है। इसके पारित होने से 20 लाख रुपये तक की...

  (रमेश तिवारी) देश में यह बात अब अच्छी तरह समझी जा रही है कि महिलाओं के आर्थिक विकास का देश के आर्थिक विकास से सीधा नाता है। यह बात तो काफी पहले से समझी जाती रही है कि देश के आर्थिक संकट का प्रभाव पुरुषों से...

  18 January 2018(Thursday) 1.दावोस सम्मेलन का पहली बार उद्घाटन करेंगे भारतीय पीएम • दुनिया में भारत का डंका बज रहा है। स्विट्जरलैंड के दावोस में होने वाले विश्व आर्थिक फोरम की शुरुआत पहली बार भारत का कोई प्रधानमंत्री करेगा। नरेंद्र मोदी उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए...

    1.सुप्रीम कोर्ट में कोई संकट नहीं : चीफ जस्टिस दीपक मिश्र के खिलाफ आवाज उठाने वाले दो न्यायाधीशों के बदल गए सुर • मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्र के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों द्वारा विद्रोह किए जाने से उत्पन्न संकट के समाधान की...

निया लगातार अविराम गति से बनती-बदलती रहती है, पर इसकी गति सदा एकसमान नहीं रहती। इतिहास के कुछ ऐसे गतिरोध भरे कालखण्ड होते हैं, जब चन्द दिनों के काम शताब्दियों में पूरे होते हैं और फिर ऐसे दौर आते हैं जब शताब्दियों के काम चन्द...