School of Economics |
0
home,blog,paged,paged-102,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-11.1,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.1.1,vc_responsive

उल्लेखनीय है कि पिछले 70 वर्षों में भारत ने कई उपलब्धियाँ हासिल की हैं। मोदी सरकार को इस वर्ष सत्ता में आये तीन वर्ष पूरे हो चुके हैं। इस वर्ष जुलाई में आर्थिक सुधारों को लागू हुए भी 26 वर्ष पूरे हो चुके हैं। इसके...

सरकार ने ‘बैकिंग नियमन संशोधन अधिनियम’ (Banking Regulation Amendment Act) को अधिसूचित कर दिया है। इससे भारतीय रिज़र्व बैंक को फंसे हुए ऋण को वसूलने के लिये बैंकों को निर्देश देने की शक्ति मिल जाएगी। उल्लेखनीय है कि देश का बैंकिंग क्षेत्र गैर-निष्पादित परिसंपतियों यानी एनपीए...

*जनधन-आधार-मोबाइल की क्रांति* तीन साल पहले 28 अगस्त को ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री जनधन योजना के रूप में अपने एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम का आगाज किया था। इस योजना का मकसद देश के गरीबों तक बैंकिंग सुविधाएं पहुंचाना था, ताकि अभी तक इससे महरूम तबका...

• वैश्विक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज का कहना है कि सरकार की तरफ से बैंकों में अतिरिक्त पूंजी डाले बिना केन्द्रीय मंत्रिमंडल के सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में विलय प्रक्रिया को तेज करने के फैसले मात्र से इन बैंकों की कमजोर पूंजी आधार कीस्थिति में...

अब जब हम अपना 71वाँ स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं तो यह विचार करना समीचीन होगा कि एक देश के रूप में हमारी क्या उपलब्धियाँ हैं। इस प्रगति का आकलन करने का सबसे बेहतर उपाय यही हो सकता है कि हम इसका मिलान संविधान की...

चर्चा में क्यों? इंडियन सोसाइटी फॉर ट्रेनिंग एंड डेवलपमेंट (Indian Society for Training and Development - ISTD) देश में बड़ी संख्या में उपस्थित अकुशल आबादी का उन्नयन (upgrade) करने में मदद करने के लिये कुशल लोगों की एक राष्ट्रीय रजिस्ट्री बनाने की योजना बना रही है। ऐसी...

📰 हिंदू संपादकीय 📰 नेपाल के प्रधान मंत्री की यात्रा ने द जताई कि द्विपक्षीय संबंधों को एक नया संतुलन मिलेगा एक समय था जब डॉकलामा स्टैंड-ऑफ ने हिमालयी भू-राजनीति पर ध्यान केंद्रित किया था, नेपाल के प्रधान मंत्री शेर बहादुर देवबा की भारत यात्रा के महत्व...

The horizon of economics is gradually expanding. It is no more a branch of knowledge that deals only with the production and consumption. However, the basic thrust still remains on using the available resources efficiently while giving the maximum satisfaction or welfare to the people on...