School of Economics |
0
home,blog,paged,paged-38,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-11.1,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.1.1,vc_responsive

  बिहार की ‘शाही लीची’ को जीआई टैग प्राप्त हुआ_* _बिहार के मुजफ्फरपुर में उगाई जाने वाली ‘शाही लीची’ को हाल ही में राष्ट्रीय स्तर पर पहचान प्राप्त हुई है. बौद्धिक संपदा कानून के तहत ‘शाही लीची’ को अब जीआई टैग (जियोग्राफिकल आइडेंटिफिकेशन) दे दिया गया है....

दैनिक समसामयिकी INTERNATIONAL/BILATERAL 1.दुनिया की 58वीं सबसे प्रतिस्पर्धी अर्थव्यवस्था है भारत • विश्व आर्थिक मंच ने प्रतिस्पर्धी अर्थव्यवस्थाओं की अपनी 2018 की सूची में भारत को 58वां स्थान दिया है। सूची में पहला स्थान यानी सबसे प्रतिस्पर्धी अर्थव्यवस्था की जगह अमेरिका को मिली है। • विश्व आर्थिक मंच (र्वल्ड...

Sunanda Sen September 24, 2018 Growing concerns on the current state of the Indian economy, which have been met with responses filled with assurances and proposals from official circles for remedial actions on part make it urgent to delve into the issues which spell out the...

.भारतीयों के जीन को अनुक्रमित करने हेतु मिशन_* भारत एक प्रमुख मिशन की योजना बना रहा है, जिसके अंतर्गत भारतीयों के "बड़े" समूह के जीनों को अनुक्रमित किया जाएगा। इस परियोजना में भारतीयों के "बड़े" समूह के जीनों को अनुक्रमित करने हेतु भारत समेत विभिन्‍न देश भी...

11 अक्टूबर: अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस विश्वस्तर पर 11 अक्टूबर 2018 को अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया गया. आज पूरा विश्व 6वां अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस मना रहा है. इस दिवस को पहली बार साल 2012 में मनाया गया था. अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस को बढ़ावा देने के लिए इस दिन...

  1.विश्व असमानता सूचकांक में भारत अंतिम 10 देशों में • असमानता घटाने की प्रतिबद्धता के मामले में ब्रिटेन स्थित ‘ऑक्सफेम इंटरनेशनल’ ने अपना नया विश्वव्यापी सूचकांक जारी किया। इसमें भारत का स्थान अंतिम 10 देशों की सूची में शामिल है। इस सूची में डेनमार्क शीर्ष पर...

C. P. Chandrasekhar October 10, 2018 Voices questioning the claim that nations and the majority of their people stand to gain from global trade are growing louder. The one difference now is that the leading protagonist of protectionism is not a developing country, but global hegemon...