School of Economics | Discover, Learn & Grow
0
home,blog,paged,paged-94,ajax_fade,page_not_loaded,,qode-title-hidden,qode_grid_1300,qode-content-sidebar-responsive,qode-theme-ver-11.1,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.1.1,vc_responsive

   Introduction In order to push digital payments Prime Minister Narendra Modi has launched a new merchant app named BHIM – Aadhaar, for accepting payments from customers using their Aadhaar identity and also launched two schemes named as “BHIM Referral Bonus Scheme” and “BHIM Cashback” schemes for...

  (डॉ. ऋतु सारस्वत) आमतौर पर विश्व मानस पटल में भारत की छवि एक खुशहाल देश की है, लेकिन सच इस छवि को नकारता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक भारत छत्तीस प्रतिशत की अवसाद दर के साथ विश्व के सर्वाधिक अवसादग्रस्त देशों में एक...

    हमारा देश विभिन्न संस्कृतियों का देश है जो समूचे विश्व में अपनी एक अलग पहचान रखता है। अलग-अलग संस्कृति और भाषाएं होते हुए भी हम सभी एक सूत्र में बंधे हुए हैं तथा राष्ट्र की एकता व अखंडता को अक्षुण्ण रखने के लिए सदैव तत्पर रहते...

    *_The Hindu Editorial _*     With the India Meteorological Department getting its monsoon forecast wrong this year, its modelling has necessarily come under the spotlight. In April, the IMD had predicted “near normal”, or 96%, rains and then upgraded the figure to 98% a couple of months...

  The Hindu Editorial - Mumbai’s ghastly suburban railway stampede, in which 23 people died after being crushed on a narrow staircase, was the inevitable consequence of prolonged neglect of urban public transport in India. The financial capital depends mainly on the 300 km suburban system, which...

*🌑विश्व विकास रिपोर्ट 2018 जारी:🗓* किसी देश के विकास के लिए उसकी शिक्षा का दुरुस्त होना सबसे जरूरी होता है। देश को प्रगतिशील बनाने के लिए लोगों में ज्ञान की गंगा का बहाव निरंतर बहना चाहिए। अच्छी शिक्षा पाने से जीवन में अपना लक्ष्य प्राप्त करना आसान होता है...

विश्व की दूसरी बड़ी आबादी वाले देश भारत की जनसंख्या की खाद्य और पोषण आवश्यकताओं की पूर्ति करने की दृष्टि से भारतीय कृषि विशेष महत्ता रखती है। कृषि देश की अर्थव्यवस्था, मानव-बसावट तथा यहाँ के सामाजिक-सांस्कृतिक ढाँचे एवं स्वरूप की आधारशिला बनी हुई है। यह...

*📕उम्मीद जता रहे आंकड़े* एक अनुमान के मुताबिक दुनिया भर में साढ़े तीन करोड़ हेक्टेयर कृषि भूमि पर करीब 14 लाख उत्पादक जैविक खेती कर रहे हैं। कृषि भूमि का करीब दो-तिहाई हिस्सा घास वाली भूमि है। फसल वाला क्षेत्र 82 लाख हेक्टेयर है जो कुल...